Mat Karo Intzaar Itna Ki

Mat Karo Intzaar Itna Ki

Mat Karo Intzaar Itna Ki


मत इंतज़ार करो इतना की

वक्त के फासले पे अफ़सोस हो जाए

क्या पता कल क्या हो

और हम खामोश हो जाए

 

Leave a Reply